Connect with us

देश

दरिंदों की हैवानियत फिर आईं सामने, लॉक डॉउन के आड़ में दोस्त का ही किया रेप

Published

on

पूरे देश में लॉक डॉउन लगा हुआ है ताकि कोरोना वायरस जैसी महामारी से बचा जा सके। लेकिन समाज में कुछ ऐसे दरिंदे छिपे हैं, जो हमेशा इंसानियत को शर्मसार करते रहते हैं। झारखंड में 10 लड़को ने मिलकर रात भर एक जंगल में 16 वर्षीय छात्रा से रेप किया। इसकी जानकारी तब हुई, जब सुबह छात्रा होश में आई और पास के थाने में बयान दर्ज कराया।

यह घटना 24 मार्च की है जिस दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए पूरे देश में लॉकडॉउन की घोषणा की थी। छात्रा लॉक डॉउन के बाद अपने गांव लौट रही थी तो। उसने मदद के लिए अपने दोस्त को बुलाया था। उसका दोस्त अपने दोस्त को लेकर छात्रा के पास पहुंचा। फिर उन दोनों ने छात्रा से जबरजस्ती रेप किया और अन्य लोगों को भी बुलाकर उसका रेप करवाया। छात्रा रात भर जंगल में बेहोश पड़ी रही । और जब सुबह होश में आई तो उसने खुद पास के थाने में जाकर अपनी बीती बताई।

पूरा मामला झारखंड के दुमका का है। छात्रा किशोरी गोपीकांदर प्रखंड क्षेत्र की रहने वाली है। और यह दुमका शहर के शिवपहाड़ में किराए का कमरा लेकर एसपी कॉलेज से इंटर की पढ़ाई कर रही थी। लॉक डॉउन की घोषणा के बाद उसने घर जाना उचित समझा । रात का समय था तो दोस्त को मदद के लिए बोला लेकिन दोस्त ही हैवान निकले। सच मानव सभ्यता का अंत हो रहा है।

पुलिस को दिए बयान के अनुसार उसने करुदीह पहुंचने से पहले अपने घरवालों को फोन किया था कि आके उसे रिसीव कर लें। लेकिन घरवालों को अाने में लेट हो रहा था तो उसने अपने दोस्त विक्की उर्फ प्रसन्नजीत हांसदा को फोन किया । विक्की अपने दोस्त के पास वहां पहुंचा और वे तीनों लोग स्कूटी में बैठ के घर की आेर जाने लगे लेकिन विक्की घर की ओर जाने की बजाए दूसरे कच्चे और जंगल के रास्ते मुड़ गया। छात्रा के पूछने पर विक्की ने कहा कि उस रास्ते में चेकिंग लगी हुई है। विक्की ने सूनसान जंगल में बाइक रोक दी और कहा कि उसे सौच करना है। विक्की शौच करने जंगल में घुस गया और छात्रा उसके अंजान दोस्त के साथ खड़ी रही। और फिर जब विक्की आया तो ओ और उसके दोस्त ने मिलकर छात्रा के साथ रेप किया। इसके बाद अन्य 8 लोग और आए उन्होंने ने भी छात्रा के साथ रेप किया।

एक देश कोरोना वायरस जैसी महामारी से लड़ रहा है। दूसरे तरफ़ ए दरिंदे अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसे में देश को दो तरफा लड़ना पड़ रहा है। एक तो इन हैवानों से दूसरी ओर महामारी से।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

देश

शरद पवार ने दिया राहुल गांधी को करारा जवाब

Published

on

 

चीन के साथ फेस-ऑफ को लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच वाकयुद्ध के बीच, शरद पवार ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए ।

पवार की टिप्पणी कांग्रेस नेता राहुल गांधी के उस आरोप के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में आई जिसमें कहा गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय क्षेत्र को चीनी आक्रमण के लिए आत्मसमर्पण कर दिया था।

पवार ने यह भी कहा कि लद्दाख में गालवान घाटी की घटना को तुरंत रक्षा मंत्री की विफलता के रूप में नहीं देखा जा सकता क्योंकि गश्त के दौरान भारतीय सैनिक सतर्क थे।

पवार ने कहा कि भारत संचार उद्देश्यों के लिए अपनी सीमा के भीतर गालवान घाटी में एक सड़क का निर्माण कर रहा था।

पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि चीनी सैनिकों ने हमारी सड़क पर अतिक्रमण करने की कोशिश की और उन्हें शारीरिक रूप से धकेल दिया गया। यह किसी की विफलता नहीं थी। यदि आप गश्त कर रहे हैं तो कोई व्यक्ति आपके क्षेत्र में आता है, वे किसी भी समय आ सकते हैं।” यह दिल्ली में बैठे रक्षा मंत्री की विफलता है, ”

गांधी द्वारा लगाए गए आरोपों का जवाब देते हुए, पवार ने कहा कि कोई भी यह नहीं भूल सकता कि चीन ने देशों के बीच 1962 के युद्ध के बाद भारत की लगभग 45,000 वर्ग किमी भूमि पर कब्जा कर लिया।

“वह जमीन अब भी चीन के पास है। लेकिन जब मैं एक आरोप लगाता हूं, तो मुझे यह भी देखना चाहिए कि जब मैं सत्ता में था तो क्या हुआ था। यदि उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी भूमि का अतिक्रमण किया गया, इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है और इसका राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए जो मुझे लगता है, “उन्होंने कहा।

Continue Reading

देश

देश में 5 लाख के पार हुए कोरोना के मामले, 15,662 की कोरोना से हुई मौत

Published

on

महामारी‌ कोविड 19 नमक कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है।  इस महामरि ने मनुष्य जीवन को बुरी तरह से प्रभावित किया है। लगातार लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जा रहे हैं। रोजाना संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है।  कोरोना वायरस के वैश्विक आंकड़ों पर नजर रखनेवाली वेबसाइट वर्ल्डोमीटर्स के मुताबिक शुक्रवार (26 जून) रात 10 बजे तक देश में कोरोना के कुल 506972 मामले हो गए हैं और मृतकों की संख्या 15,662 तक पहुंच गई है।

राहत की बात यह है कि अब तक कुल 294988 लोग स्वस्थ होकर अस्पताल से घर लौट चुके हैं। इस महामारी से सबसे अधिक महाशक्ति अमेरिका प्रभावित है। अमेरिका में कोरोना मरीजों की संख्या 25 लाख के पार पहुंच चुकी है, जबकि 1.267 लाख से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। ब्राजील, भारत, रूस और पेरू जैसे देशों में भी मरने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

भारत में कोरोना से मारने वालों की संख्या 15,662 तक पहुंच गई है। जबकि 5 लाख से अधिक लोग अब तक भारत में लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं।  संक्रमित हुए 506972 लोगों में से 294988 लोग स्वस्थ होकर अस्पताल से घर भी लौट चुके हैं। अगर पिछले 24 घंटे की बात करें तो देश में पिछले 24 घंटे में 17 हजार 296 नए मामले सामने आए हैं और 407 लोगों की मौत हो गई है। अकेले महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 5024 नए मामले सामने आए हैं और 175 मौतें दर्ज की गईं है। वहीं देश की राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 3460 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही दिल्ली में कुल संक्रमितों की संख्या 77 हजार को पार कर गई है।

देश के हर राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। लॉक डॉउन के हटने के बाद से अनलॉक 1 में कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार भी तेजी से बढ़ी है। संक्रमण की यह रफ़्तार लगातार बढ़ती ही जा रही है।

Continue Reading

देश

चीन के ख़िलाफ़ पूरे देश हो रहा है प्रदर्शन, JCB पर चढ़े पप्पू यादव

Published

on

पूर्वी लद्दाख के गलवन घाटी के समीप हुई भारत और चीन के सेनाओं के बीच हुई हिंसक झड़प में चीन का दोहरा चेहरा सबके सामने आ गया है। अब चीन के इस रवैए से भारत ही नहीं पूरा विश्व खफा है। भारत में चीन के खिलाफ़ जगह – जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। चीनी सेना के खूनी झड़प के बाद भारत पूरी तरह से अलर्ट हैं भारत की तीनों सेनाएं ( थल सेना, जल सेना, वायु सेना ) अलर्ट मोड पर हैं। उधर भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी साफ कह दिया है “कि अगर भारत को कोई भोली उकसाने की कोशिश करता है तो भारत उस यथोचित जवाब देने में सक्षम है।”

 

भारत के विभिन्न शहरों में हो रहे प्रदर्शन में लोग चीन को खरी – खोटी सुना रहे हैं। लेकिन चीन को दोगली राजनीति करने के आगे कुछ आता ही नहीं। पटना में लोगों ने गधों को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रक्षा मंत्री की फोटो पहनाकर विरोध प्रदर्शन किया। 15-16 जून को गलवान घाटी में भारत-चीन के बीच हुई ​झड़प में भारत के 20 जवानों की जान चली गई थी।

उधर चीन अपनी गलती ना मानकर उल्टा भारत पर आरोप लगा रहा है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने आरोप लगाते हुए कहा है कि भारतीय अग्रिम पंक्ति के सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार किया। उन्होंने जानबूझकर चीनी अधिकारियों और सैनिकों को भड़काया और हमला किया, जिसकी वजह से हिंसक संघर्ष हुआ। जबकि सच्चाई यह है कि चीनी सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार कर भारतीय सैनिकों को उकसाया और फिर पहले खुद ही भारतीय सैनिकों पर हमला किया। चीन अपनी गलती छुपा रहा है, लेकिन चीन की गलती से सभी भली – भांति परिचित हैं।

JCB पर चढ़े पप्पू यादव

 

इतना ही नहीं जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पप्पू यादव चीन के विरोध में जेसीबी मशीन पर चढ़ गए। पप्पू यादव ने जेसीबी मशीन पर चढ़कर एक चीनी मोबाइल फोन निर्माता कंपनी के बैनर को काला रंग पोत दिया। चीन को अभी एहसास नहीं हो रहा है कि उसकी अर्थव्यवस्था में भारत के लोगों का ही योगदान है। फिर भी चीन गुस्ताखी करने से बाज नहीं आ रहा है।

Continue Reading

Most Popular