Connect with us

खेल

पीवी सिंधु बनी विश्व चैंपियन, एक और स्वर्ण पदक किया अपने नाम .

Published

on

स्विट्जरलैंड में हो रहे BWF वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने आज स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया. पदक जीतने के साथ ही वह ऐसा करने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी बन गई हैं. यह विश्व चैंपियनशिप 19 अगस्त से 25 अगस्त तक चला .इसमें विश्व भर के 45 देशों के 359 से अधिक खिलाड़ियों ने भाग लिया.फाइनल मुकाबले में उन्होंने जापान के प्रतिद्वंदी को एकतरफा मुकाबले में करारी मात दी. सिंधु ने अपने प्रतिद्वंदी को 21-7, 21-7 के करारी अंतर से हराकर खिताब अपने नाम किया.


File Photo.

 

अवॉर्ड अपने मां को समर्पित किया.

स्वर्ण पदक जीतने के बाद पीवी सिंधु ने यह पुरस्कार अपनी मां पी. विजया को समर्पित किया. उनके माता-पिता हैदराबाद स्थित पैतृक घर पर रहते हैं.सिंधु ने मां के जन्मदिन पर यह उपहार अपनी तरफ से दिया . गौरतलब हो कि उनकी मां भी राष्ट्रीय स्तर की वॉलीबॉल प्लेयर रह चुकी हैं. उनके खेल के रुझान प्रति रुझान में उनके परिवार का बहुत बड़ा योगदान है. मीडिया से बातचीत करते हुए में उनकी मां ने कहा कि जीवन में अब तक का सबसे शानदार और सबसे बढ़िया उपहार मुझे इस रूप में मिला.

मीडिया से बात करती पीवी सिंधु की माँ .
Photo: ANI

सबसे सफलतम बैडमिंटन खिलाड़ियों में से एक रही है पीवी सिंधु.

आज वो हो भारत की महानतम खेल बैडमिंटन खिलाड़ी में से एक हैं.उन्होंने एक बार नहीं बल्कि कई बार इसका प्रमाण दिया.उन्होंने अपने करियर की शुरुआत साल 2009 में सब जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप से खेलकर शुरुआत की थी. उसके बाद साल दर साल उनके अवार्ड जीतने की संख्या में बढ़ोतरी होती रही. 2016 में ब्राजील में हो रहे ओलंपिक खेल में कई साल के बाद उन्होंने भारत के लिए रजत पदक जीता. उसके बाद युवाओं के लिए वो एक आइकन बन गई. उसी साल उन्हें खेल के क्षेत्र में सबसे सर्वोच्च पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड से नवाजा भी गया.

बैडमिंटन संघ ने पुरस्कार और राशि देने की घोषणा की.

भारतीय बैडमिंटन संघ ने उनके इस जीत के बाद उन्हें 20 लाख रुपए देने का देने की घोषणा की है. उनके साथ आवाज मेडल जीतने वाले ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले बी. साईं को भी 5 लाख की नगद पुरस्कार मिलेगी. इस जीत के बाद बधाई संदेश से का तांता लग गया है. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर उनको बधाई दी और उन्होंने कहा कि पीवी संधू की सफलता आने वाले कई युगों को प्रेरित करेगी.

पत्रकारिता का छात्र हूं. खबरों से मोलभाव करना आदत नहीं. ख़ुद कम बोलता हूं, दूसरों की अधिक सुनता हूं.कविताएं लिखना और पढ़ना दोनों ही देर रात तक जगाती है. साल 2020 में पहली पुस्तक " काविश" प्रकाशित की गयी .

क्रिकेट

2 जुलाई को अपनी नई पारी शुरू करेंगे महेंद्र सिंह धोनी

Published

on

कैप्टन कूल के नाम से मशहूर भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी 2019 के वर्ल्ड कप के बाद से ही टीम से बाहर चल रहे हैं। धोनी को इंटरनेशनल मैच खेले लगभग 1 साल हो गए हैं। वर्तमान में महामारी कोविड 19 नमक कोरोना वायरस की वजह से पूरा का पूरा खेल जगत प्रभावित है। हालांकि कुछ देशों ने कुछ खेल शुरू कर दिए हैं। लेकिन अब इस महामारी के चलते कितने दिनों तक खेल नहीं खेला जाएगा? इस प्रश्न का उत्तर अभी तो किसी के पास नहीं है। हालंकि कैप्टन कूल धोनी 2 जुलाई से अपनी ऑनलाइन कोचिंग शुरू करेंगे।

महेंद्र सिंह धोनी 2 जुलाई को ऑनलाइन क्रिकेट एकैडमी लॉन्च करेंगे। इस ऑनलाइन क्रिकेट एकेडमी के तहत हजारों युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस काम के लिए 200 कोच की नियुक्ति भी की जा चुकी है। दो जुलाई से खिलाड़ियों के लिए कोचिंग शुरू होने जा रही है। साउथ अफ्रीका के पूर्व क्रिकेटर डेरिक कलिनन उनकी इस योजना के डायरेक्टर बनाए गए हैं। सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी धोनी की यह ऑनलाइन क्रिकेट एकेडमी युवाओं को क्रिकेट की बारीकियां सिखाएगी।

हम सभी जानते है कि महामारी‌ कोरोन वायरस की वजह से आईपीएल 2020 भी अभी तक नहीं हो सका है। अगर आज ये महामारी ना फैली होती तो हम सभी धोनी को आईपीएल में खेलते देख पाते। अब तक शायद वह (धोनी) सीनियर टीम में वापसी भी कर चुके होते। लेकिन कोरोना की वजह से सब कुछ रुक सा गया है। इस रुके हुए दौर को पटरी पर लाने के लिए ही धोनी ऑनलाइन क्रिकेट अकेडमी लॉन्च कर रहे हैं। अगर धोनी के कोचिंग एक्सपीरिएंस की बात करें तो धोनी के पास अभी कोच के रूप में खूब खास अनुभव नहीं है। हालांकि उन्होंने 2017 में दुबई में अपनी क्रिकेट अकेडमी खोली थी लेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट की बाध्यताओं की वजह से वो इसको ज्यादा समय नहीं दे पाए थे। उनकी एकैडमी पिछली साल बंद कर दी गई थी। इसके अलावा चेन्नई सुपर किंग्स के उनके साथी क्रिकेटर रविचंद्रन अश्विन की एकैडमी भी पिछले साल बंद हो गई थी।

सबको उम्मीद है कि जल्द से जल्द इंटरनेशनल मैच शुरू हो। उधर बीसीसीआई की तरफ से भी संकेत मिल रहें हैं कि अगर साल के अंत तक कोरोना की‌ स्थिति सामान्य हो जाती है तो संभव है कि बीसीसीआई आईपीएल करा दे।

Continue Reading

क्रिकेट

आज के दिन इन 5 खिलाड़ियों ने किया था अपना टेस्ट डेब्यू

Published

on

भारतीय क्रिकेट इतिहास की बात की जाए तो 20 जून का दिन भारतीय क्रिकेट इतिहास में काफी अहमियत रखता है। क्योंकि आज ही के दिन भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम को ऐसे पांच खिलाड़ी मिले थे जिन्होंने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट  मैच खेला था और जिनमें से 3 खिलाड़ी भारत के कप्तान भी बने। 20 जून 1996 को दो भारतीय खिलाड़ियों ने इंटरनेशनल टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था तो वहीं 20 जून 2011 को तीन भारतीय खिलाड़ियों ने इंटरनेशनल टेस्ट क्रिकेट में भारत की तरफ से अपना पहला मैच खेला था। यानी कुल मिलाकर 20 जून को पांच भारतीय खिलाड़ियों ने अपना डेब्यू टेस्ट मैच खेला था। और इन 5 खिलाड़ियों में से तीन भारतीय खिलाड़ियों को कप्तानी करने का भी मौका मिला।

20 जून 1996 को बाएं हाथ के बल्लेबाज दादा यानी सौरव गांगुली और दाएं हाथ के बल्लेबाज राहुल द्रविड़ दोनों ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में डेब्यू किया था। इंग्लैंड के ऐतिहासिक मैदान लॉर्ड पर गांगुली और द्रविड़ ने एक साथ अपने कैरियर का पहला मैच खेला था इस मैच में सौरव गांगुली ने टॉप मॉडल में बल्लेबाजी करते हुए शतक जमाया था जबकि राहुल द्रविड़ 95 रन के निजी स्कोर पर आउट हो गए थे।‌ यह मैच बेनतीजा रहा था।

वहीं 2011 में इन्हीं खिलाड़ियों ने अपना पहला टेस्ट मैच खेला था। 20 जून 2011 को भारत के वर्तमान कप्तान विराट कोहली,  प्रवीण कुमार और अभिनव मुकुंद ने अपना पहला टेस्ट डेब्यू मैच खेला था। हालांकि, विराट कोहली और अभिनव मुकुंद इस मैच में फ्लॉप रहे थे, लेकिन प्रवीण कुमार ने दोनों पारियों में टीम के लिए 3-3 विकेट चटकाकर अपनी टीम को जीत दिलाने में सफलता हासिल की थी। हालांकि, न तो प्रवीण कुमार और न ही अभिनव मुकुंद ज्यादा दिन तक टीम के लिए खेल पाए।

भारतीय टीम के लिए अभिनव मुकुंद ने 2011 से 2017 तक कुल 7 टेस्ट मैच खेले हैं, जबकि प्रवीण कुमार का टेस्ट करियर उसी साल 6 टेस्ट मैच खेलकर समाप्त हो गया था। वहीं, आज के दिन टेस्ट डेब्यू करने वाले इन 5 खिलाड़ियों में से तीन खिलाड़ियों को भारतीय टीम की कप्तानी करने का मौका मिला है, जिनमें सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ और विराट कोहली का नाम है। वहीं, अभिनव मुकुंद ने तमिलनाडु राज्य और इंडिया ए की कप्तानी की है।

आज के दिन टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाले इन 5 भारतीय खिलाडियों में से 3 खिलाड़ियों को भारत की कप्तानी करने का मौका मिला, जिनमें सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ और विराट कोहली का नाम है। वहीं, अभिनव मुकुंद ने तमिलनाडु राज्य और इंडिया ए की कप्तानी की है। विराट कोहली अभी भी भारत की कप्तानी कर रहे हैं। वह भारत के वनडे क्रिकेट टीम, टेस्ट क्रिकेट टीम और टी – 20 क्रिकेट टीम के कप्तान हैं। वर्तमान समय में विराट कोहली भारत की तरफ से सभी फॉर्मेट में कप्तानी का जिम्मा संभाले हुए हैं।

Continue Reading

क्रिकेट

शिखर धवन ने किया खुलासा, कहा इसलिए रोहित शर्मा के साथ जमती है जोड़ी

Published

on

rohit-dhawan

वनडे क्रिकेट में ओपनिंग की बात की जाए तो शिखर धवन और हिटमैन रोहित शर्मा की जोड़ी की बात ना की जाए, तो बहुत गलत होगा। दोनों ने वनडे क्रिकेट में अब तक भारत को एक सुलझी शुरुआत दी है और आगे भी दोनों भारत को अच्छी शुरुआत देने की कोशिश करेंगे। गब्बर यानी शिखर धवन ने खुलासा किया है कि रोहित शर्मा और उनकी जोड़ी वनडे क्रिकेट में अब तक इतनी सफल क्यों रही है?

 

शिखर धवन ने कहा है कि मेरी और रोहित शर्मा की जोड़ी सफल इसलिए रही है क्योंकि हम दोनों के बीच ट्रस्ट फैक्टर है। शिखर धवन ने कहा कि हम दोनों एक दूसरे पर बहुत भरोसा करते हैं, और इसी भरोसे के दम पर हम छोटे-छोटे रन दौड़ कर  चुरा लेते हैं, खैर कभी-कभी गलतियां भी हो जाती हैं।

 

 

वनडे क्रिकेट में ओपनिंग साझेदारी की बात की जाए तो भारत की तरफ से सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली ने सबसे ज्यादा 21 बार वनडे क्रिकेट में ओपनिंग  साझेदारी की है। और वहीं ऑस्ट्रेलिया के मैथ्यू हेडन और एडम गिलक्रिस्ट दूसरे स्थान पर हैं। वहीं अगर रोहित शर्मा और शिखर धवन की ओपनिंग साझेदारी की बात की जाए तो इन दोनों ने अब तक मिलकर भारत को वनडे में एक अच्छी शुरुआत दिलाई है दोनों ने 16 बार वनडे क्रिकेट में भारत के   शतकीय साझेदारी भी की है।

 

 

 

ओपनर शिखर धवन ने क्या कहा खुद ही पढ़िए “मैं उसको (रोहित शर्मा) अंडर 19 के दिनों से जानता हूं। वह एक-दो साल जूनियर था और फिर हम एक साथ आए थे। हम एक दूसरे पर भरोसा करते हैं और अच्छी दोस्ती भी हम दोनों के बीच है, जो हमारे काम आती है। हम दोनों एक दूसरे के स्वभाव और किरदार को जानते हैं। मैं जानता हूं कि वह कैसा है। यह बहुत गर्व करने वाली बात है कि हमने मिलकर भारत के लिए अच्छा किया है।”

 

गब्बर आगे कहते हैं “जब एक दूसरे के साथ सामंजस्य होता है तो यह आपके लिए सकारात्मक ऊर्जा और वाइब्स लाता है। जब भी मुझे अपनी बल्लेबाजी से कोई समस्या आती है, मैं उससे पूछता हूं। हमारे बीच में एक मजबूत संचार चल रहा होता है। हम साल में 230 दिन एक साथ यात्रा करते हैं। इसलिए पूरी टीम इंडिया एक बड़ा परिवार है।” शिखर धवन को गब्बर के नाम से भी जाना जाता है यह सब तो आप जानते ही होंगे।

 

महामारी कोविड-19 की वजह से अभी क्रिकेट की शुरुआत नहीं हुई है हालांकि आईपीएल होने के कयास लगाए जा रहे हैं। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा है कि बिना दर्शकों के भी आईपीएल कराया जा सकता है। आए दिन आ रहे बीसीसीआई और तमाम क्रिकेटरों के बयान से कयास तो यही लगाए जा रहे हैं कि इस वर्ष के अंत तक आईपीएल कराया जा सकता है।

Continue Reading

Most Popular