Connect with us

देश

कोटा में अभी भी फंसे हैं बिहार के हजारों बच्चे.

Published

on

कोचिंग नगरी कोटा में बिहार के हजारों बच्चे फंसे हैं. इन फंसे हुए बच्चों संख्या तकरीबन 6500- 7000 हजार के आसपास है. इसी बीच बिहार के एक भाजपा विधायक अपने बच्चे को घर लाकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पूर्ण लॉकडाउन मंसूबे पर पानी फेर दिया है.  दरसअल कुछ दिन पहले बिहार सरकार ने कोटा जिला प्रशासन द्वारा छात्रों को पास जारी करने पर केंद्रीय गृह सचिव को पत्र लिखकर नाराजगी जताई थी और वहां के डीएम को कड़ी चेतावनी जारी करने का आग्रह किया.

   बिहार को छोड़कर राज्यों ने बसें भेजी.

बिहार को छोड़कर बाकी अधिकतर राज्यों ने बसें भेजकर फंसे बच्चों को सकुशल घर लाने का कार्य जारी कर दिया.   उत्तरप्रदेश सरकार ने 300 बसें भेजकर बच्चों को घर भेज दिया.  इन्हीं बसों से उत्तराखण्ड के बच्चों को भी आगरा तक लाया गया. मध्यप्रदेश सरकार ने भी 100 बसें भेजने का फैसला लिया है .इन बसों से तक़रीबन 2500 फंसे हुए बच्चों को लाया जाएगा.  वहीं झारखण्ड ,पंजाब, गुजरात और असम जैसे राज्यों ने सम्पर्क कर फंसे हुए बच्चों की जानकारियां जुटाकर वापसी की योजना पर काम कर रही है .

स्थानीय स्तर पर छात्रों की मदद कर रही Ithappensinkota  की टीम ने बातचीत के दौरान हमें बताया रोजाना उन्हें तकरीबन 2000 छात्रों के संदेश मिल रहे हैं. अधिकतर राज्यों के बच्चों के चले जाने के बाद खासकर बिहार के बच्चे बहुत तनाव की स्थिति से गुजर रहे हैं. इस स्थिति में  वो ठीक से पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं. कई राज्यों के छात्रों के निकल जाने के बाद उनका तनाव और बढ़ गया है.

मकान मालिक किराया लेने को कर रहे मजबुर.

इस मुस्किल वक़्त में हॉस्टल और पीजी में रह रहे बच्चों को मकान मालिक भी किराया लेने को मजबुर कर रहे हैं. आर्थिक रूप से कमजोर घरों के बच्चे पर इसका सीधा असर पड़ रहा है. रोजगार ठप होने से कई परिवार आर्थिक तंगी से गुजर रहे है. बातचीत के दौरान हमें पता चला कि कोटा में अबतक छात्रों से किराया नही लेने के लिए हॉस्टल और पीजी मालिकों को कोई दिशा निर्देश नहीं जारी किया है. इससे सुदूर ग्रामीण इलाकों से आकर पढ़ाई करने वाले छात्रों की आर्थिक मुश्किलें बढ़ गई है.

news# state# Bihar Top# Bihar politics# Nitish Kumar# Yogi Adityanath# Ashok Gehlot# Students returning from Kota# coronavirus# Corona Alert# Corona Virus Effect# Corona in Bihar# Lock Down# Lockdown 2# COVID 2019# बिहार समाचार# कोरोना वायरस# कोरोना संक्रमण# लॉक डाउन# नीतीश कुमार# News# National News# Bihar news

पत्रकारिता का छात्र हूं. खबरों से मोलभाव करना आदत नहीं. ख़ुद कम बोलता हूं, दूसरों की अधिक सुनता हूं.कविताएं लिखना और पढ़ना दोनों ही देर रात तक जगाती है. साल 2020 में पहली पुस्तक " काविश" प्रकाशित की गयी .

देश

शरद पवार ने दिया राहुल गांधी को करारा जवाब

Published

on

 

चीन के साथ फेस-ऑफ को लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच वाकयुद्ध के बीच, शरद पवार ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए ।

पवार की टिप्पणी कांग्रेस नेता राहुल गांधी के उस आरोप के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में आई जिसमें कहा गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय क्षेत्र को चीनी आक्रमण के लिए आत्मसमर्पण कर दिया था।

पवार ने यह भी कहा कि लद्दाख में गालवान घाटी की घटना को तुरंत रक्षा मंत्री की विफलता के रूप में नहीं देखा जा सकता क्योंकि गश्त के दौरान भारतीय सैनिक सतर्क थे।

पवार ने कहा कि भारत संचार उद्देश्यों के लिए अपनी सीमा के भीतर गालवान घाटी में एक सड़क का निर्माण कर रहा था।

पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि चीनी सैनिकों ने हमारी सड़क पर अतिक्रमण करने की कोशिश की और उन्हें शारीरिक रूप से धकेल दिया गया। यह किसी की विफलता नहीं थी। यदि आप गश्त कर रहे हैं तो कोई व्यक्ति आपके क्षेत्र में आता है, वे किसी भी समय आ सकते हैं।” यह दिल्ली में बैठे रक्षा मंत्री की विफलता है, ”

गांधी द्वारा लगाए गए आरोपों का जवाब देते हुए, पवार ने कहा कि कोई भी यह नहीं भूल सकता कि चीन ने देशों के बीच 1962 के युद्ध के बाद भारत की लगभग 45,000 वर्ग किमी भूमि पर कब्जा कर लिया।

“वह जमीन अब भी चीन के पास है। लेकिन जब मैं एक आरोप लगाता हूं, तो मुझे यह भी देखना चाहिए कि जब मैं सत्ता में था तो क्या हुआ था। यदि उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी भूमि का अतिक्रमण किया गया, इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है और इसका राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए जो मुझे लगता है, “उन्होंने कहा।

Continue Reading

देश

देश में 5 लाख के पार हुए कोरोना के मामले, 15,662 की कोरोना से हुई मौत

Published

on

महामारी‌ कोविड 19 नमक कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है।  इस महामरि ने मनुष्य जीवन को बुरी तरह से प्रभावित किया है। लगातार लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जा रहे हैं। रोजाना संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है।  कोरोना वायरस के वैश्विक आंकड़ों पर नजर रखनेवाली वेबसाइट वर्ल्डोमीटर्स के मुताबिक शुक्रवार (26 जून) रात 10 बजे तक देश में कोरोना के कुल 506972 मामले हो गए हैं और मृतकों की संख्या 15,662 तक पहुंच गई है।

राहत की बात यह है कि अब तक कुल 294988 लोग स्वस्थ होकर अस्पताल से घर लौट चुके हैं। इस महामारी से सबसे अधिक महाशक्ति अमेरिका प्रभावित है। अमेरिका में कोरोना मरीजों की संख्या 25 लाख के पार पहुंच चुकी है, जबकि 1.267 लाख से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। ब्राजील, भारत, रूस और पेरू जैसे देशों में भी मरने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

भारत में कोरोना से मारने वालों की संख्या 15,662 तक पहुंच गई है। जबकि 5 लाख से अधिक लोग अब तक भारत में लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं।  संक्रमित हुए 506972 लोगों में से 294988 लोग स्वस्थ होकर अस्पताल से घर भी लौट चुके हैं। अगर पिछले 24 घंटे की बात करें तो देश में पिछले 24 घंटे में 17 हजार 296 नए मामले सामने आए हैं और 407 लोगों की मौत हो गई है। अकेले महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 5024 नए मामले सामने आए हैं और 175 मौतें दर्ज की गईं है। वहीं देश की राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 3460 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही दिल्ली में कुल संक्रमितों की संख्या 77 हजार को पार कर गई है।

देश के हर राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। लॉक डॉउन के हटने के बाद से अनलॉक 1 में कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार भी तेजी से बढ़ी है। संक्रमण की यह रफ़्तार लगातार बढ़ती ही जा रही है।

Continue Reading

देश

चीन के ख़िलाफ़ पूरे देश हो रहा है प्रदर्शन, JCB पर चढ़े पप्पू यादव

Published

on

पूर्वी लद्दाख के गलवन घाटी के समीप हुई भारत और चीन के सेनाओं के बीच हुई हिंसक झड़प में चीन का दोहरा चेहरा सबके सामने आ गया है। अब चीन के इस रवैए से भारत ही नहीं पूरा विश्व खफा है। भारत में चीन के खिलाफ़ जगह – जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। चीनी सेना के खूनी झड़प के बाद भारत पूरी तरह से अलर्ट हैं भारत की तीनों सेनाएं ( थल सेना, जल सेना, वायु सेना ) अलर्ट मोड पर हैं। उधर भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी साफ कह दिया है “कि अगर भारत को कोई भोली उकसाने की कोशिश करता है तो भारत उस यथोचित जवाब देने में सक्षम है।”

 

भारत के विभिन्न शहरों में हो रहे प्रदर्शन में लोग चीन को खरी – खोटी सुना रहे हैं। लेकिन चीन को दोगली राजनीति करने के आगे कुछ आता ही नहीं। पटना में लोगों ने गधों को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रक्षा मंत्री की फोटो पहनाकर विरोध प्रदर्शन किया। 15-16 जून को गलवान घाटी में भारत-चीन के बीच हुई ​झड़प में भारत के 20 जवानों की जान चली गई थी।

उधर चीन अपनी गलती ना मानकर उल्टा भारत पर आरोप लगा रहा है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने आरोप लगाते हुए कहा है कि भारतीय अग्रिम पंक्ति के सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार किया। उन्होंने जानबूझकर चीनी अधिकारियों और सैनिकों को भड़काया और हमला किया, जिसकी वजह से हिंसक संघर्ष हुआ। जबकि सच्चाई यह है कि चीनी सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार कर भारतीय सैनिकों को उकसाया और फिर पहले खुद ही भारतीय सैनिकों पर हमला किया। चीन अपनी गलती छुपा रहा है, लेकिन चीन की गलती से सभी भली – भांति परिचित हैं।

JCB पर चढ़े पप्पू यादव

 

इतना ही नहीं जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पप्पू यादव चीन के विरोध में जेसीबी मशीन पर चढ़ गए। पप्पू यादव ने जेसीबी मशीन पर चढ़कर एक चीनी मोबाइल फोन निर्माता कंपनी के बैनर को काला रंग पोत दिया। चीन को अभी एहसास नहीं हो रहा है कि उसकी अर्थव्यवस्था में भारत के लोगों का ही योगदान है। फिर भी चीन गुस्ताखी करने से बाज नहीं आ रहा है।

Continue Reading

Most Popular